transport.delhi.gov.in Delhi Odd-Even Rule/Scheme Vehicles List for Relaxation and Government Plan with Fine/Penalty for Rule-Breaking

  
  1. Readers Help

    Readers Help Administrator Staff Member

    The Chief Minister of Delhi released and published the blueprint of odd-even rule / scheme which is going to implement from 1st January 2016 in Delhi. The CM said that all the procedures and legal steps are made related to this rule in Delhi also the process of taking permissions from relevant departments also completed. In the starting and first phase the odd-even rule will be applicable only to the private vehicles in Delhi. Also in the first phase it is not applicable for transport and commercial vehicles running in the Capital city.

    The CM Mr. Arvind Kerjiwal released the details about this rule in a press conference publicly. However in time-to-time the information was coming related to this but today the CM official announced to apply this rule. Delhi’s Chief Minister Mr. Kejriwal said that for this rule the official notification would be released on upcoming Monday.

    Mr. Kerjiwal also said after in starting first phase only to include the private cars that people are talking about this but no government tried to apply this rule in capital. He also said that on the odd date and days only the odd number cars would run on the road. Same as this on the even date and days only the even numbers car would be used on the road. This rule is applicable on road of Delhi from morning 8 am to evening 8 pm. On the Sunday this scheme is not applicable for citizens. If the traffic police found and caught any car owner breaking the rule, the cops will charge with Rs. 2000 (two thousand rupees) as the fine/penalty. The CM also said that if this plan got success same as this it will be applied for the two wheeler vehicles in Delhi.

    odd-even.jpg

    The government of Delhi also announced to register 10000 new TSR (auto rickshaws) also. CM is also expecting that some of auto will start running on the roads from 1 January. He also said that DTC will bring more buses and the transport department will mark different lane for the buses on the road. He said that we couldn’t make perfect to the public transport and to department in single night. For this the government is trying in every phase and soon the result will be out with the benefits of citizens in Delhi.

    The CM asked and appealed to people for supporting this odd-even rule in Delhi. He said that if the private vehicles using owner will start following this rule it will bring more load instantly on transport public vehicles. For the solution of this problem Mr. Kerjwal suggested to the people for sharing the cars with their relatives, friends, neighbors as car pooling. CM also said that we also released the instructions for the parking places that not to give permission for parking to odd number vehicles on the even day and even numbers vehicle on odd day.

    Vehicles for Relaxation in All Days:
    Total 18 categories and posts are given relaxation under this rule. Also the CM Mr. Kejariwal is not going to take the benefits of relaxation. All two wheelers, CNG vehicles, electric and hybrid vehicles, women and individuals constitutional positions are given relaxation under this rule. Following people and vehicles can get the benefits of relaxation:

    Ø All types of two wheeler vehicles

    Ø All types of CNG Vehicles

    Ø Electric and hybrid vehicles.

    Ø Women driver vehicles

    Ø Vehicle of president

    Ø Vehicle of vise-president

    Ø Vehicle of prime minister

    Ø Vehicle of lok-sabha speaker

    Ø Vehicle of rajya-sabha deputy speaker

    Ø Governor’s vehicle of all states

    Ø Vehicles of leftinent governor

    Ø Chief ministers of all states (expect from Delhi)

    Ø Judges of high court

    Ø Energy supply vehicles

    Ø Ambulance and medical emergency vehicles

    Ø Vehicle of fire-brigade/ fire fighters

    Ø Vehicles of hospitals (private and government)

    Ø Vehicles of prisons and jails

    Ø Vehicles of Investigation agencies

    Ø Vehicles of paramilitary

    Ø Vehicles of defense ministry

    Ø Vehicles of pilot and security

    Ø Vehicles of SPG

    Ø Vehicles of embassy number plats

    Ø People on the way of hospital in emergency (but they have to show the proof)


    Chief Minister of Delhi is not given any relaxation under this rule. Apart from the above list the handicapped drivers and vehicles are also allowed in both types of as odd or even days. On the day of car free day on 22 December the CM said that the in this matter all political parties are requested not to play political game. He said that after the car free day the traffic police also stopped to the commercial vehicles and auto drivers. He also said that to stopping the vehicles and using the challan it is simple to talk direct with the citizens of Delhi.

    oddevendelhi.png

    While telling about the experience of car free day CM said that the after the appeal and explaining the matter the citizens gave their support to this rule. In this matter also more than 10000 NGO (non-government organizations) members will help to people and will appeal to give their support. CM also said apart from cutting the challan we could explain to people by giving flowers. He also asked for help to the traffic police regarding to this even-odd rule in Delhi. He said by hitting to the people we cant force to people for following this rule. With the support of citizens this rule will be successful.

    Kajriwal wad that in various countries of the world this rule is already applied. Also this rule is not applied as on the permanent bases. He also said that this rule couldn’t be applied for permanent. When the pollution is on high level this rule will be applicable. After checking and getting the information stats for success of this plan the planning will start for next phase.

    For the peak hours rule breaker vehicles the CM said that if few people are breaking the rule in that case those vehicle owners will have to pay fine and penalty after the agreement of citizens, but if the government found that in large numbers people are breaking this rule they will have to close this scheme. Deputy Chief Minister Mr. Mansih Sisodia said that rule-breaking people first think about their family before going to break this rule. He said that the government not implemented this rule for it’s own benefits or ego, rather then it’s applied to maintain the health of citizens and to keep in mind the health related problems. It’s better to adjust with new rule instead of slow death due to pollution. This for us and through this we all will get the benefits.

     
    Last edited: Dec 24, 2015
  2. Readers Help

    Readers Help Administrator Staff Member

    मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 1 जनवरी से लागू होने जा रही ऑड-ईवन योजना का ब्लू प्रिंट जारी किया। उन्होंने कहा कि इस योजना को लागू करने से संबंधित सभी जरूरी कार्रवाई पूरी कर ली गई है। सीएम ने बताया कि सभी जरूरी विभागों से अनुमति लेने की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है। शुरुआती दौर में यह केवल निजी कारों पर लागू की जाएगी। व्यावसायिक व दुपहिया वाहनों को इसमें शामिल नहीं किया गया है।

    केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस योजना का ब्योरा सार्वजनिक किया। हालांकि इस बारे में पहले भी कई जानकारियां समय-समय पर आती जा रही थीं, लेकिन आज मुख्यमंत्री ने इस बारे में आधिकारिक घोषणा की। उन्होंने कहा कि इस बारे में सोमवार को एक आधिकारिक नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा।

    शुरुआती दौर में केवल कार को शामिल करने की बात करते हुए, केजरीवाल ने कहा कि इस बारे में काफी समय से बात की जा रही थी, लेकिन कोई भी सरकार इसे लागू करने की हिम्मत नहीं दिखा सकी। उन्होंने कहा कि ऑड तारीखों पर ऑड नंबरों की गाड़ियां चलाई जाएंगी। इसी तरह, ईवन तारीखों पर ईवन नंबर की कारें चलाई जाएंगी। इसी तरह, सुबह के 8 बजे से रात के 8 बजे तक ही यह योजना लागू होगी। रविवार के दिन यह योजना लागू नहीं होगी। नियम तोड़ने वालों पर 2,000 रुपये का जुर्माना लगेगा। उन्होंने कहा कि अगर यह योजना सफल रहती है तो आगे दुपहिया वाहनों को भी इस योजना की परिधि में लाया जाएगा।

    दिल्ली सरकार ने 10,000 नए ऑटो को पंजीकृत करने की भी घोषणा की। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि इनमें से कई ऑटो 1 जनवरी से चलने लगेंगी। उन्होंने कहा कि डीटीसी में अतिरिक्त बसें लाई जाएंगी और सड़कों पर बसों के लिए अगल लेन चिह्नित किया जाएगा। केजरीवाल ने कहा कि रातोंरात सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था को एकदम सही नहीं किया जा सकता। इसके लिए सरकार हर स्तर पर कोशिश कर रही है और बहुत जल्द कोशिशों का असर आम जनता को भी दिखने लगेगा।

    उन्होंने इस योजना को सफल बनाने के लिए लोगों से मदद की अपील की। उन्होंने कहा कि कार चलाने वाले सीधे तौर पर अगर सार्वजनिक वाहन का इस्तेमाल शुरू कर देंगे तो सार्वजनिक परिवहन पर एकाएक बहुत बोझ बढ़ जाएगा। ऐसे में, केजरीवाल ने कार मालिकों को व्यावहारिक विकल्प के तौर पर दोस्तों व रिश्तेदारों के साथ मिलकर कार पूलिंग का तरीका इस्तेमाल करने की सलाह दी। उन्होंने बताया कि दिल्ली में पार्किंग स्थलों को ऑड तारीखों में ईवन नंबर की कारें और ईवन तारीखों पर ऑड नंबर की कारें पार्क करने की इजाजत नहीं देने का निर्देश दिया गया है।

    कुल मिलाकर 18 वर्गों-पदों को इस योजना में छूट दिए जाने की व्यवस्था की गई है। खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इस योजना में छूट नहीं लेंगे। सभी दुपहिया वाहनों, सीएनजी वाहन, इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड वाहन, महिलाएं और कुछ अहम संवैधानिक पदों पर बैठे व्यक्तियों को इस व्यवस्था में छूट दिए जाने की घोषणा की गई है। छूट का फायदा ये सभी उठा सकेंगे: - दुपहिया वाहन - सीएनजी वाहन - इलेक्ट्रिक व हाइब्रिड वाहन - महिला चालक - राष्ट्रपति - उपराष्ट्रपति - प्रधानमंत्री - लोकसभा स्पीकर - राज्यसभा के डेप्युटी स्पीकर - राज्यों के राज्यपाल/लेफ्टिनेंट गर्वनर - सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, सिवाय दिल्ली के मुख्यमंत्री के। दिल्ली के मुख्यमंत्री छूट के हकदार नहीं होंगे। - सुप्रीम कोर्ट व हाई कोर्ट के जज - एनर्जी वाहन, ऐम्बुलेंस, दमकल, अस्पताल की गाड़ियां, जेल के वाहन, जांच एजेंसियों की गाड़ियां - अर्धसैनिक बलों के वाहन, रक्षा मंत्रालय के वाहन, पायलट व सुरक्षाकर्मी - एसपीजी के वाहन - दूतावास नंबरप्लेट की गाड़ियां - अस्पताल में आपातकालीन सेवा के लिए जाने वाले लोग, लेकिन इन्हें सबूत दिखाना होगा। - शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के वाहनों को भी इस योजना से छूट मिलेगी।

    22 दिसंबर को दिल्ली में कार फ्री डे के मौके पर हुई ट्रैफिक अव्यवस्था का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में राजनीति की जगह नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि कार फ्री डे होने के बावजूद ट्रैफिक पुलिस ने निजी वाहनों और ऑटो चालकों को भी रोक लिया। उन्होंने कहा कि चालान काटने और गाड़ियों को बेवजह रोककर जांचने की जगह जनता से अपील करने और उन्हें समझाने का तरीका ज्यादा कारगर साबित होगा।
    दिल्ली में हाल ही में हुए कार-फ्री दिनों के अनुभवों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे मौकों पर देखा गया कि जनता से अपील करने और उन्हें समझाने पर जनता ने सहयोग दिया। उन्होंने कहा कि इस सिलसिले में 10,000 स्वयंसेवक दिल्ली में जगह-जगह तैनात होकर जनता से पूरा सहयोग करने की अपील करेंगे। केजरीवाल ने कहा, चालान काटने से ज्यादा कारगर उन्हें फूल देकर समझाने का तरीका है।' उन्होंने ट्रैफिक पुलिस से पूरी तरह सहयोग करने की अपील की। उन्होंने कहा, 'डंडा मारकर इस नियम का पालन नहीं कराया जा सकता है। जनता के सहयोग से ही यह मुमकिन हो सकेगा।'

    मुख्यमंत्री ने कहा दुनिया के अलग-अलग देशों में यह योजना समय विशेष पर लागू हुईं। उन्होंने कहा कि स्थायी तौर पर यह योजना कहीं नहीं लागू की गई। मुख्यमंत्री ने कहा, 'यह योजना स्थायी तौर पर लागू नहीं की जा सकती है। जब प्रदूषण का स्तर बढ़ जाएगा, तब इस योजना को लागू करेंगे। पहले चरण में इसकी कामयाबी को देखते हुए आगे की इसकी रूपरेखा पर फैसला किया जाएगा।'

    पीक घंटों के दौरान बहुत सारे वाहनों द्वारा इस नियम का उल्लंघन किए जाने की स्थिति में मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कुछ लोग ही उल्लंघन करते हैं, तो जनता की सहमति से नियम तोड़ने वालों पर जुर्माना लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अगर ज्यादा संख्या में लोगों ने इस नियम का उल्लंघन किया तो सरकार को मजबूर होकर यह योजना बंद करनी पड़ेगी।

    उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने कहा कि नियम तोड़ने वाले लोग एक बार अपने परिवार के बारे में सोचें। उन्होंने कहा कि इस नियम को सरकार अपने अहंकार या फायदे के लिए नहीं लागू कर रही, बल्कि यह जनता की सेहत को ध्यान में रखते हुए लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा, 'पल-पल मरने से बेहतर है कि हम अपने आराम से थोड़ा समझौता करें। यह हम सबके लिए है। इसका फायदा हम सभी को होगा।'
     
Draft saved Draft deleted

Share This Page