pmujjwalayojana.com: Pradhan Mantri Ujjwala Yojana-PMUY Apply/KYC Form/Scheme Details & Procedure-प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना विशेषताएं/आवेदन प्रक्रिया

  
  1. IndianReaders

    IndianReaders Administrator Staff Member

    प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
    (Pradhan Mantri Ujjwala Yojana/PMUY)
    १ मई २०१६ को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने इस योजना की शुरुआत की थी। यह योजना एक देश कल्याण हित योजना है। जिसका मुख्य लक्ष्य लोंगों को प्रदूषण रहित ईंधन से बचाना तथा देश का विकास करना है। जिससे वायु प्रदूषण में कमी आएगी। भारत सरकार का उद्देश्य इस योजना के माध्यम से गरीब परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराना है। इस योजना के अनुसार केंद्र सरकार ५ करोड़ गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों को मुफ्त एलपीजी कनेक्शन देगी।

    pradhan-mantri-ujjwala-yojana.jpg

    राज्य सरकार तथा संघ शासित प्रदेशों के द्वारा विचार विमर्श के बाद लाभभोगी परिवारों को चुना जायेगा। योजना का कार्यावयन वित्तीय वर्ष 2016-17,2017-18 और 2018-19 में किया जायेगा। भारतीय इतिहास में पहली बार पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय गरीब परिवार की महिलाओं को लाभ पहुँचाने वाली योजना पर कार्य करेगी।देश के निर्धनों की अभी तक एलपीजी पर सामान्य पहुँच रही है। इसकी पहुँच ज्यादातर शहरी तथा अर्धशहरी क्षेत्रो के ज्यादातर माध्यम तथा उच्च वर्ग के परिवारों के पास रही है लेकिन इस योजना के आने के बाद यह पहुँच निम्न वर्ग तक पहुचेगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में हर साल दूषित ईंधन की वजह से लगभग ३-५ लाख लोगों की मृत्यु होती है। विशेषज्ञों के अनुसार दूषित ईंधन जलाने का मतलब प्रतिघंटे ४०० सिगरेट के बराबर है। इसीलिए भारतीय केंद्र सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा तथा सशक्तिकरण को ड़याँ में रखते हुए यह योजना बनाई है।

    योजना की विशेषताएं
    (Features of PMUY Scheme)
    • कनेक्शन महिलाओं के नाम पर दिए जायेंगे।
    • गैस चूल्हे तथा रिफिल की लागत के लिए emi सुविधा दी जाएगी।
    • वर्त्तमान वित्तीय वर्ष में इस योजना २००० करोड़ रूपये के बजट की घोषणा की गयी है।
    • आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) ने अगले 3 साल के लिए 8000 करोड़ के बजट की घोषणा की है।
    • ५ करोड़ परिवारों को एलपीजी कनेक्शन के साथ साथ १६०० रुपये की वित्तीय सहायता भी प्रदान करेगा।
    यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गिव इट अभियान का परिणाम है कि ७५ लाख निम्न तथा मध्यम वर्ग के परिवारों ने अपनी इच्छा से सब्सिडी छोड़ दी। गिव इट के तहत भारत सरकार ने अब तक लगभग 5,000 करोड़ रुपये एलपीजी सब्सिडी में बचा लिए हैं।

    योजना के उद्देश्य
    (Aim of Scheme)
    • महिला की सशक्तिकरण तथा उनकी सुरक्षा।
    • जीवाश्म ईंधन का प्रयोग कम करके वायु प्रदूषण को कम करना।
    • एलपीजी का प्रयोग करके जीवाश्म ईंधन से होने वाली मौतों को रोकना।
    • असुरक्षित ईंधन से होने वाली हानिकारक गैस से बच्चों को बचाना।

    योजना का कार्यान्वयन तथा चयन
    (Selection& Implementation of Plan)
    भारत देश के इतिहास में पहली बार पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय महिलाओं के हित में कोई योजना लाया है जिससे देश के करोडो परिवार की महिलाओं को लाभ मिलेगा। इस योजना की लाभार्थियों का चयन केंद्र तथा संघ शासित प्रदेशों के विचार विमर्श के बाद किया जायेगा। इसको २०१६-१९ वित्तीय ३ साल में पूरा किया जायेगा। लाभाथियों का चयन केवल बीपीएल परिवारों में से किया जायेगा। एस सी/एस टी तथा पिछड़े वर्ग के लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। राष्ट्रीय अनुपात की तुलना में कम एलपीजी कवरेज वाले राज्यों को प्राथमिकता दी जाएगी। इस योजना के अनुसार जिनके पास आरम्भ में जिनके पास एलपीजी कनेक्शन न हो वे आवेदन कर सकते है।

    आवेदन प्रक्रिया
    (How to Apply & Procedure)
    प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लिए आवेदन करने के लिए आवेदन पत्र भरकर नजदीकी एलपीजी वितरण केंद्र में जमा करवा दे। पंचायत अधिकारी या नगर पालिका अध्यक्ष द्वारा अधिकृत BPL प्रमाणपत्र,BPL राशन कार्ड,एक फोटो ID जैसे(आधार कार्ड या मतदाता पहचान पत्र या ड्राइविंग लाइसेंस या पासपोर्ट,लीज करार,टेलीफोन, बिजली या पानी का बिल, राजपत्रित अधिकारी द्वारा सत्यापित स्व-घोषणा पत्र, BPLराशन कार्ड, फ्लैट आवंटन / कब्ज़ा पत्र, आवास पंजीकरण दस्तावेज, LICपालिसी, बैंक / क्रेडिट कार्ड स्टेटमेंट), एक पासपोर्ट साइज फोटो, आधार कार्ड की प्रति

     
Draft saved Draft deleted

Share This Page