Open Account under Sukanya Samriddhi Yojana & Necessary Documents-सुकन्या समृद्धि योजना खाता/अकाउंट तथा आवेदन

  
  1. IndianReaders

    IndianReaders Administrator Staff Member

    सुकन्या समृद्धि योजना
    ३ दिसम्बर २०१४ में सुकन्या समृद्धि योजना का भारत सरकार के राजपत्र में प्रकाशन हुआ था। यह योजना का उद्देश्य लड़कियों की पढाई शादी में आने वाली दिक्कतों को आसान करना है। योजना के तहत बेटी की पढाई या शादी के लिए पोस्ट ऑफिस में कन्या समीरिधि अकाउंट खुलवाया जा सकता है। डाक विभाग के किसी भी सेंटर में खाता खुलवाने के लिए अलग काउंटर खुलेगा। ४ दिसम्बर २०१४ को भारत सर्कार ने बालिकाओं के लिए इस विशेष जमा योजना का शुभारम्भ किया।

    Sukanya Samriddhi Yojna Benefits.jpg

    इस नियम के अंतर्गत खाता १० वर्ष तक की बच्ची ही खाता खुलवा सकती है लेकिन सरकार ने इस योजना के शुरू होने के एक साल पहले हुयी १० साल की बच्चियों को छूट दी थी।

    • जमाकर्ता कन्या के नाम पर एक ही खाता खुलवा सकता है तथा चला सकता है।
    • दो बेटियां होने पर दो खाते भी खोल सकते है।
    • जुड़वां होने पर प्रूफ लेकर ही तीसरा खाता खुलवाया जा सकता है। पालक या संरक्षक खाते को कहीं भी ट्रांसफर करवा सकते है।
    • खाता खोलने के शुरू में इसमें एक हज़ार रूपये रखना अनिवार्य होगा जबकि वर्तमान में चल रहे साल में जमाकर्ता बेटी के खाते में एक हज़ार से एक लाख तक की राशि जमा करवा सकतें है।
    • खाता खोलने की तारीख से १४ वर्ष तक ही पैसे जमा किये जा सकेंगे।
    • यदि प्रतिवर्ष न्यूनतम राशि यानि एक हज़ार रूपये जमा नहीं करवाये गए तो ५०/- रु0 का जुर्माना भरना पड़ेगा।
    • ब्याज बताई गयी दर पर वार्षिक या मासिक देय होगा।
    • १० से छोटी बच्ची का खाता उसके माता-पिता या संरक्षक द्वारा ही खोला व चलाया जायेगा लेकिन १० वर्ष की होने पर बच्ची को भी इसे चलने का अधिकार है तथा पूरे भारतवर्ष में इसे कहीं भी ट्रांसफर करवा सकते हैं।
    • कन्या के बालिग यानि १८ वर्ष की होने पर जमा राशि के आधे यानि ५०% तक का धन निकालने का पूरा अधिकार होगा।
    • इस योजना के तहत खुलने वाले खातों को आयकर धारा ८०जी के तहत छूट दी जाएगी।
    • कन्या की मृत्यु होने पर उसके माता-पिता या संरक्षक के पास ये अधिकार होगा की वह खाता बन्द करवा के उस धन को निकलने का अधिकार होगा।
    • खाता खोलने के इक्कीस साल बाद बाद खाता बन्द हो जायेगा तथा पैसा पालक/संरक्षक को मिल जायेगा।
    • १८-२१ वर्ष के बीच यदि कन्या की शादी हो जाती है तो खाता बन्द कर दिया जायेगा तथा जमाराशि ब्याज सहित दे दी जाएगी।
    • योजना के अनुसार यदि किसी व्यक्ति ने 2014 में 1,000 रुपए महीने से अकाउंट खोलता है और 14 साल तक यानी 2027 तक हर साल 12 हजार रुपए डालने होंगे। मौजूदा हिसाब से उसे हर साल 8.6 फीसदी ब्याज मिलता रहेगा तो जब बच्ची 21 साल की होगी तो उसे 6,07,128 रुपए मिलेंगे। फायदे की बात यह है की १४ साल में आपने सिर्फ 1.68 लाख डाले बाकि के 4,39,128 रुपए ब्याज के हैं।
    कार्यप्रणाली
    इस योजना का लाभ उठाने के लिए अधिकृत बैंक या पोस्ट ऑफिस में खाता खुलवा लें। यह खाता १० साल या उससे कम उम्र की बच्ची को ही इस योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना के अनुसार खाते में जमा राशि पर हर वर्ष भारत सरकार की ओर से ब्याज दरों की घोषणा की जाएगी। 2014-15 के लिए ब्याज दर 9.1 प्रतिशत(परिवर्तनीय) तय की गई थी।

    आवश्यक दस्तावेज
    • बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र
    • एड्रेस प्रूफ
    • आई डी प्रूफ
    योजना से जुड़ी नवीन जानकारी
    इस योजना में कुछ संशोधन तथा बदलाव भी हुए है जो निम्न है -

    ⟳⇝ सर्व शिक्षा अभियान तथा एडोप्टेड: नए नियम के अनुसार गोद ली गयी बच्चियों के नाम पर भी सुकन्या खाता खोला जा सकता है।
    केवल भारतीय मूल निवासी बालिका को ही इस योजना का लाभ मिलेगा।

    • ब्याज दर में हर साल सरकार द्वारा संशोधन किया जा सकता है।
    • प्रतिवर्ष न्यूनतम राशि १००० रूपये जमा करने होंगे चूक होने पर ५० रूपये का दंड के बाद खाता नियमित होगा यदि १५ साल तक खाता नियमित नही हुआ तो सारे पैसों और ब्याज पर बैंक/पोस्ट ऑफिस का हक होगा।
    • अगर किसी कारण लाभार्थी के पालक/संरक्षक की मृत्यु हो जाती है तो ब्याज दर सामान्य सर्व शिक्षा अभियान की दर के रूप में मिलेंगी।
    • वित्तीय वर्ष जमाकर्ता १.५ लाख रूपये जमा करवा सकता है,अतिरिक्त राशि देने पर उस अतिरिक्त राशि पर ब्याज नही दिया जायेगा। जमाकर्ता कभी भी उस अतिरिक्त राशि को वापस निकाल सकता है।
    • ऑनलाइन भुगतान मोड़-अब आप पेमेंट कैश के अलावा चेक या डीडी के द्वारा भी कर सकतें है नए नियमो ने स्पष्ट किया है की 'ऑनलाइन भुगतान मोड' (इलेक्ट्रॉनिक हस्तांतरण) तथा सीबीएस सुविधा (कोर बैंकिंग सोल्यूशन) बैंक/पोस्ट ऑफिस द्वारा स्वीकार्य है।
    ⟳⇝ ब्याज गणना प्रक्रिया: सर्व शिक्षा अभियान के तहत, ब्याज वार्षिक आधार पर तय होगा।

    ⟳⇝ पासबुक खो जाने पर नई डुप्लीकेट पासबुक के लिए ५०/- रूपये देने होंगे तथा सर्व शिक्षा अभियान के एक रिक्वेस्ट एप्लीकेशन देनी होगी।

    ⟳⇝ आप खाते अंतरण बैंक से पोस्ट ऑफिस में मुफ्त ट्रांसफर कर सकते है। अभिभावक को स्थानांतरण प्रमाण पत्र देना होगा। यदि आप स्थानांतरण नही कर रहे है तो आप अपने बैंक या पोस्ट ऑफिस में ट्रांसफर करने के लिए १००/- रूपये फीस देनी होगी।

    ⟳⇝ उच्च शिक्षा के लिए लाभार्थी १०वी पास या १८ वर्ष जो भी पहले हो के बाद ५०% राशि विड्रॉवल एप्लीकेशन देकर निकल सकती है।

    ⟳⇝ विड्रावल की किस्ते साल में एक से अधिक न हो,यह पांच साल के अधिकतम समय में किया जा सकता है।

    ⟳⇝ खाता बन्द करने के लिए लाभार्थी को १८ साल होने का प्रमाण पत्र देना होगा। यदि लाभार्थी समय से पहले शादी के लिए विड्रॉवल करना चाहती है और खाता बन्द करना चाहती है।

    ⟳⇝ यदि खाता शुरू करने के बाद लाभार्थी नागरिकता बदलता है /एनआरआई हो जाता है तो अभिभावक को बैंक को तुरंत सूचित करना होगा वरना खाता बन्द करदिया जायेगा। तथा ऐसे में खातों पर ब्याज भुगतान नहीं होगा।

    ⟳⇝ पी पी एफ से अधिक ब्याज ९.१० फीसदी दिया जायेगा।

    अधिक जानकारी के लिए कृपया नीचे दिए हुए लिंक पर जाएँ:

     
Draft saved Draft deleted

Share This Page