enps.nsdl.com: Apply for NPS/New Pension Scheme & Pran Card Status Check Online-न्यू नेशनल पेंशन स्कीम योजना के लिए आवेदन/प्राण कार्ड आवेदन स्थिति

  
  1. IndianReaders

    IndianReaders Administrator Staff Member

    न्यू नेशनल पेंशन स्कीम
    (National Pension Scheme-NPS)
    बुढ़ापे में जब इन्सान की हिम्मत जवाब दे देती है वह नौकरी करने के लायक नहीं रह जाता तो पेंशन ही उसके जीवन में पेट पलने का सहारा बन जाती है। सरकार ने इसी बात को ध्यान में रखते हुए NPS की शुरुआत की है ताकि अधिक से अधिक बूढ़े लोगों को आर्थिक सुरक्षा मिल सके।

    हमारे देश मुख्यतः ६०-६५ वर्ष की आयु में व्यकि रिटायर्ड हो जाते हैं लेकिन आने वाले समय में इसे ७५ साल की करने की आशंका है। सरकार द्वारा १० अक्टूबर २००३ में पैंशन फण्ड नियामक एंड विकास प्राधिकरण की स्थापना की। जिसने १ जनवरी २००४ में नेशनल पैंशन स्कीम (NPS) लॉन्च हुआ जिसका प्रमुख लक्ष्य रिटायर्ड व्यक्तियों को रिटायरमेंट इनकम उपलब्ध कराना था। भविष्य के लिए जागरूक तथा प्रोत्साहित करना भी PFRDA का एक प्रमुख काम था।

    pran-status.jpg

    नेशनल पेंशन स्कीम NPS ने १ जनवरी २००९ में सफलतापूर्वक अपने काम का शुभारम्भ किया गया। इससे पहले पैशन केवल रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी को मिलती लेकिन २००३ में यह बंद कर दी गयी थी। उसके बाद उन्हें nps के तहत पैंशन देने की बात कही गयी जिसमे प्राइवेट/अन्य गैर सरकारी नौकरी वाले लोगों भी शामिल किया गया। nps के तहत धारक को PRAN कार्ड प्रदान दिया जाता है।

    NPS के अंतर्गत धारक को PRAN ( ए यूनिक परमानेंट रिटायरमेंट अकाउंट नंबर अर्थात एक अनूठा स्थायी सेवानिवृत्ति खाता कार्ड संख्या) दिया जाता है जिससे वो अपने खाते को यथार्थ चला सके। यह नंबर धारक द्वारा बदला नही जा सकता है। यह भारत के किसी भी कोने में चल सकता है।

    इसके योजना तहत दो तरह के खाते खोले जा सकते है:

    टियर १- यह नॉन विड्रॉवल सेविंग अकाउंट है जिससे आदमी पैसा नहीं निकाल सकता है केवल 60 साल पूरे होने के बाद ही धारक पैसे निकाल सकता है। ६० साल तक धारक को केवल पैसा जमा करना पड़ता है। इसमें खाता शुरु करने के लिए ५०० रुपये से शुरू करना पड़ता है। इसमें न्यूनतम मासिक योगदान कम से कम ५०० रूपये तथा साल में कम से ६००० रूपये होना चाहिए। इसमें टैक्स में लाभ मिलेगा।

    टियर २ - यह सामान्य बचत खाता है जिसके तहत आदमी इसमें कभी भी विड्रॉवल करवा सकता है। इसमें टैक्स में कोई लाभ नही मिलेगा। इसमें से आप कभी भी पैसे निकलवा सकतें है। इस खाते को खुलवाने के लिए कम से कम १००० रुपये की धनराशि लगेगी। महीने में कम से कम २५० रूपये तथा साल में कम से कम २००० की राशि जमा करनी अनिवार्य है।

    नेशनल पेंशन स्कीम के प्रमुख विशेषताएं:


    १ केंद्रीय सरकारी कर्मचारी - आर्मी ऑफिसर्स के अलावा कोई भी सरकारी कर्मचारी NPS से जुड़ सकतें है। क्योंकि nps से जुड़ने के लिए आल सिटीजन मॉडल के तहत टियर १ में इस योजना का लाभ उठा सकतें है। केंद्रीय सरकारी कर्मचारी के लिए यह योजना अनिवार्य है जिसके अनुसार हर महीने १०% उनकी तनख्वाह से कटता है और उतने ही पैसे का योगदान सरकार करती है। लाभार्थी/धारक को रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलती है। रिटायरमेंट के बाद वो पैसा निकल सकता है। यदि किसी कारणवश लाभार्थी/धारक की मृत्यु हो जाती है तो सारा पैसा नॉमिनी को दिया जायेगा।

    २ राज्य सरकार कर्मचारी - किसी भी राज्य के सरकारी कर्मचारी भी इस योजना से जुड़ सकतें है लेकिन इसके लिए उन्हें राज्य सरकार से नोटिस की जरुरत है। अन्य सरकारी कर्मचारी जो इस nps के अंतर्गत नही आते वे भी pop-sp (point of presence -service provider) के माध्यम से आल सिटिज़न मॉडल के तहत आवेदन कर सकते है। राज्य सरकार के कर्मचारी को इसका लाभ उठाने के लिए एक फार्म भरकर ddo के हस्ताक्षर लेने पड़ेंगे। योगदान केंद्र सरकारी योजना की तरह ही होगा लाभार्थी के वेतन का १0% तथा उतना ही सरकार द्वारा दिया जायेगा। पेंशन रिटार्यरमेंट के बाद ही मिलेगी। धारक की मृत्यु होने पर सारा पैसा नॉमिनी को मिल जाता है।

    [myad]myad[/myad]

    ३.कॉर्पोरेट- कॉर्पोरेट स्वतंत्र रूप से कॉर्पोरेट स्तर/subscriber level के तहत इस योजना से जुड़ सकतें है तथा आल सिटीजन मॉडल के अंतर्गत किसी भी योजना में शामिल हो सकते है।

    ४.असंगठित क्षेत्र के श्रमिक - अन्य व्यक्ति भी इस योजना में शामिल हो सकते है इसके लिए पहले स्वालम्बन योजना थी लेकिन अब इसे अटल पेंशन योजना ने प्रतिस्थापित कर दिया है। इसके लिए लाभार्थी की आयु १८-४० वर्ष के बीच होनी चाहिए। अटल पेंशन योजना के लिए ज्यादा जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट https://examresultinfo.com पर जाएँ।
    योजना के लाभ


    नयी पेंशन योजना के मुख्य लाभ निम्न हैं:

    १. पारदर्शिता- यह एक लाभकारी पेंशन योजना है जिसमे निवेश करना आसान तथा लाभदायक है। इसके सभी कार्यों में सुगमता तथा पारदर्शिता बनी रहती है। पारदशिता यानि आप कभी भी इसके बारे में कोई भी जानकारी जैसे निवेश, लाभ आदि का हिसाब ले सकते है।

    २. सुगम कार्यशैली- नई पेंशन योजना के नियम बहुत ही सरल है जिसे कोई भी आम नागरिक आसानी से समझ सकता है। यह अन्य निवेश योजनाओं की तरह उलझी नही है। इसमें एक PRAN (एक अनूठा स्थायी सेवानिवृत्ति खाता कार्ड संख्या) दिया जाता है जिससे लाभार्थी बड़ी सरलता से इस योजना से जुड़ा रहता है।

    ३. सुगम वहनीय(पोर्टेबल) योजना - यह योजना बहुत ही सरल योजना है इससे मिले PRAN संख्या से हर कार्य में सुविधा रहती है जैसे ब्रांच/बैंक भी बदलना चाहें तो आसानी से बदल सकते है लेकिन प्राण नंबर नही बदलेगा।

    ४. योजना का संचालन- इस योजना की साडी प्रक्रिया PFRADA(pension fund regulatory and devlopment authority यानि पेंशन निधि नियामक एवं विकास प्राधिकरण) की निगरानी में होता है। सभी संभव जानकारी आप PFRADA से ले सकतें है।

    ५. कर लाभ - वर्त्तमान में टियर १ में किये गए योगदान के लिए EET(Exempt-Exempt-Taxed यानि छूट-छूट-कर) के अनुसार योगदान राशि धारा ८० सी के तहत १ लाख रुपये तक सकल कुल आय से कटौती के हक़दार है। यह आयकर नियमों के अनुसार समय समय पर बदल सकता है।

    टियर १ के अनुसार योगदान तथा सालाना पर कोई कर नही है लेकिन रिटायरमेंट के बाद मिलने वाली पेंशन पर कर लगेगा। यह योजना लाभार्थी के भविष्य को ध्यान में रखते हुए बनाई गयी है और बुढ़ापे के समय व्यकि को आत्मनिर्भर रहने का सहारा है। आज के समय में जब लोगो पर महंगाई की मार पड़ रही है उसको देखते हुए यह योजना बहुत ही लाभप्रद आसान तथा सुखदायी है।

    गैर सरकारी लोगों के लिए सरकार द्वारा स्वावलंबन की योजना लायी गयी थी लेकिन कुछ कमियों के कारण इसे बदल कर अटल पेंशन योजना में तब्दील कर दिया गया। आज देश के करोडो लोग इस योजना से जुड़ रहे है। भारत सरकार द्वारा कई बीमा पॉलिसी भी लायी गयी है जिसके माध्यम से भी आम नागरिक लाभ उठा सकते है। अतः हमें जागरूक नागरिक की तरह इस योजनाओं का लाभ उठाना चाहिए ताकि हमारा भविष्य सुरक्षित तथा सुखदायी हो।
     
Draft saved Draft deleted

Share This Page