दिव्यांग जनो के लिए भारत सरकार की योजना राष्ट्रीकृत बैंक के माध्यम से ऋण: Loan Schemes by Nationalized Banks for Disable Person

  
  1. RAM KASTURE

    RAM KASTURE Member

    दिव्यांग जनो के लिए भारत सरकार की योजना
    दिव्यांग जन विभाग के अधीन नेशनल हेंडीकेप्ड फाईनेंस एंड डेवलपमेंट कारपोरेशन के अधीन इस योजना का सञ्चालन किया जा रहा है. योजना का उद्देश्य विकलांग व्यक्तियों को ट्रेनिंग की सुविधा मुहैया उपलब्ध्द कराना है. जिससे कि वे पारम्परिक एवं तकनीकि व्यवसायों एवं उद्यमिता के क्षेत्र में उचित तकनीकि प्रशिक्षण प्राप्त कर सक्षम एवं स्वावलंबी बन सकें.वित्तीय सहायता अनुदान के रूप में उपलब्ध्द कराई जाती है. आज देश में सबसे अधिक उपेक्षित यही वर्ग है. योजना का प्रचार प्रसार व्यवस्थित नहीं होने के कारण इसका लाभ पात्र लोगो को नहीं मिल पारहा है. ग्रामीण विकलांगो की स्थिति कही अधिक ख़राब है, जिन्हें योजना की कोई जानकारी नहीं दे पारहा है. अनेक आज भी माँ बाप पर आश्रित है.

    राष्ट्रीकृत बैंक के माध्यम से कियान्वित किया जाना
    NHFC विकलांग व्यक्तियों को ऐसे कई क्रियाकलापों के लिए वित्तीय सहायता उपलब्ध्द कराता है जिससे कि उनकी आय में वृद्धि हो सके. इन क्रियाकलाप का विवरण निम्नानुसार हैं .

    ► सेवा/ट्रेडिंग क्षेत्र में छोटा व्यवसाय स्थापित करने के लिए:
    व्यवसाय के क्रियाकलाप के लिए 3.00 लाख रुपये तक का ऋण और सेवा क्षेत्र क्रियाकलाप के लिए 5.00 लाख रुपये का ऋण उपलब्ध्द कराया जाता है. इस कार्यक्रम के अंतर्गत जिस छोटे व्यवसाय, परियोजना अथवा क्रियाकलाप के लिए वित्तीय सहायता मांगी गई है उसे विकलांग व्यक्ति को स्वयं चलाना होगा और इस उपक्रम में कम से कम 15 प्रतिशत विकलांग व्यक्तियों को रोजगार देना होगा. इस शर्त के साथ यह ऋण योजना अंतर्गत दिया जाता है.


    ► वाणिज्यिक क्रियाकलाप के लिए वाहन की खरीद हेतु :
    10.00 लाख रुपये तक ऋण. इस राशी से वाणिज्यिक उद्देश्य के लिए ऑटोरिक्शा सहित वाहन की खरीद की जा सकती है.


    ► छोटी इंडस्टरी स्थापित करने के लिए:
    25.00 लाख रुपये तक का ऋण स्वीकृत किया जाता है. यह ऋण विकलांग व्यक्तियों को निर्माण, गढ़ाई एवं उत्पादन के लिए मुहैया कराया जाता है। विकलांग व्यक्ति ही इस कम्पनी का मालिक/मुख्य कार्यकारी होगा इस कार्यक्रम के साथ शर्त है कि कम्पनी में कम से कम 15 प्रतिशत विकलांग व्यक्तियों को रोजगार प्रदान करेगा।


    ► कृषि क्रियाकलाप के लिए:
    10.00 लाख रुपये तक का ऋण उपलब्ध्द कराया जायेगा. यह ऋण विकलांग व्यक्तियों को कृषि उत्पादन, सिंचाई, बागवानी, रेशमपालन, कृषि सेवा के लिए कृषि संबधी मशीनरी/उपकरण की खरीद, कृषि उत्पादकों के विपणन आदि के लिए उपलब्ध कराया जाता है.


    ► मानसिक रुप से अविकसित व्यक्तियों, सेरेबरल पालसी और ऑटिज्म से पीड़ित के बीच स्व:रोजगार:
    10.00 लाख रुपये तक का ऋण स्वीकृत करने का प्रावधान योजना के अंतर्गत है. ऐसे मामलों में, वित्तीय सहायता आश्रित को जो मानसिक रुप से अविकसित है अथवा कानूनी अभिभावक अथवा पत्नी के माध्यम से प्रदान की जाती है. ऐसे प्रकरणों में आवेदक और उनके अभिभावकों को संयुक्त कर्जदार बनाया जाता है. आवेदक के ऋण अदा न करने की दशा में अभिभावक से ऋण वसूल किया जा सकेगा.


    ► विकलांग व्यक्तियों की शिक्षा/प्रशिक्षण हेतु ऋण :
    देश और विदेशों में शिक्षा के लिए ऋण दिया जाता है, आवेदक को मान्यताप्राप्त शैक्षिक संस्थान से व्यवसायिक पाठ्यक्रमों को करने के लिए, ट्यूशन एवं अन्य फीस/मैनटेनन्स कॉस्ट/बुक्स एवं उपकरण आदि पर होने वाले खर्च को पूरा करने के लिए दिया जाता है. इस कार्यक्रम के लिए पात्रता: कोई भी भारतीय नागरिक जिसे 40 प्रतिशत अथवा उससे अधिक विकलांगता हो. इस योजना में कर्जदार संयुक्त रुप से विकलांग विद्यार्थी और उसके माता.पिता/अभिभावक को माना गया है.


    ऋण की धनराशि
    यह आवश्यकता पर आधारित ऋण है. यह ऋण माता पिता और आवेदक की ऋण चुकाने की कितनी क्षमता के आधार पर दिया जाता है. इस ऋण की निम्नलिखित सीमाएं निर्धारित की गयी है.

    भारत में अध्ययन . अधिकतम 10.00 लाख रुपये

    विदेशों में अध्ययन. अधिकतम 20.00 लाख रुपये

    प्रोत्साहक का योगदान
    4.00 लाख रुपये के ऋण तक . शून्य

    भारत में पाठ्यक्रमों के लिए 4.00 लाख से अधिक के ऋण के लिए . 5 प्रतिशत

    विदेशों में पाठ्यक्रमों के लिए 4.00 लाख से अधिक के ऋण के लिए . 15 प्रतिशत

    ब्याज दर
    इस ऋण पर 4 प्रतिशत वार्षिक दर से ब्याज लगाया जायेगा. महिलाओ को ब्याज में 0.5% की छुट प्राप्त होगी

    ऋण की अदायगी
    ♫► अदायगी के आरम्भ होने के दिनांक से पश्चात् 07 वर्ष के भीतर यह ऋण चुकाया जायेगा.

    ♫► ऋण की अदायगी नियमानुसार पाठ्यक्रम की समाप्ति की निर्धारित तिथि से छ: माह पश्चात् अथवा नौकरी मिलने के पश्चात्, जो भी पहले हो ऋण की अदाएगी की जाएगी. ऋण का भुगतान समय समय पर किया जाना आवश्यक है. अपनी ऋण के भुगतान को सुरक्षित रखने के लिए बैंक आवेदक का बीमा भी कराता है.

    कौशल एवं उद्यमीय विकास हेतु वित्तीय सहायता
    इस स्कीम का उद्देश्य विकलांग व्यक्तियों को प्रशिक्षित करना है जिससे कि वे पारम्परिक एवं तकनीकि व्यवसायों एवं उद्यमिता के क्षेत्र में उचित तकनीकि प्रशिक्षण के माध्यम से सक्षम एवं स्वावलंबी बन सकें. वित्तीय सहायता अनुदान के रूप में उपलब्ध्द कराई जाती है।

    स्कीम का क्षेत्र सीमित है:
    • जिन लाभभोगियों को एस सी ए के माध्यम से एन एच एफ डी सी से .ऋण प्राप्त हुआ है और अपनी आय के सृजन संबंधी क्रियाकलाप को सफलतापूर्वक जारी रखे हुए हैं।
    • जिन लाभभोगियों को ऋण स्वीकृत हो चुका है और ऋण प्राप्त करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं।
    • सम्भाव्य लाभभोगी जो एन एच एफ डी सी से ऋण प्राप्त करना चाहते हैं और ऋण प्राप्त करने के लिए पात्रता मानदंडो को पूरा करते हैं .
    इस योजना के लिए:
    लाभभोगियों को एन एच एफ डी सी से ऋण प्राप्त करने के लिए पात्रता शर्ते पूर्ण करनी होगी. पात्रता की शर्ते योजना के क्रियान्वयन के कार्यालय में उपलब्ध है. या इसे इन्टरनेट से डाउनलोड किया जा सकता है.

    • प्रशिक्षण की अवधि – यह अवधि 12 माह की होगी.
    अनुदान की धनराशि
    • प्रशिक्षण कार्यक्रम की कुल आवर्ती लागत की 100% एन एच एफ डी सी द्वारा प्रदान की जाती है
    • छात्रवृति आवर्ती प्रशिक्षण लागत रुपए का वजीफा भी शामिल होगा. / प्रशिक्षु को प्रति माह 2000 परिवहन और अन्य प्रासंगिक व्यय की लागत को कवर करने. प्रशिक्षण संस्थान / SCA प्रशिक्षु के पक्ष में एक के माध्यम से वजीफा जारी / करेगा आदाता को चेक के माध्यम से प्राप्त किया जायेगा या हितग्राही के खाते में सीधा जमा किया जाएगा.

    वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए प्रकिया
    प्रशिक्षण के प्रस्ताव को राज्य माध्यम एजेंसी / बैंक द्वारा राष्ट्रीय विकलांग वित्त एवं विकास निगम को प्रस्तुत किया जायेगा, कहीं भी, ऐसी एजेंसियों प्रशिक्षण प्रायोजक. प्रतिष्ठित राष्ट्रीय / राज्य स्तरीय प्रशिक्षण संगठनों को भी सीधे उनके प्रस्ताव को प्रशिक्षण के साथ NHFDC प्रशिक्षण देने के लिए चुन सकता है.

    प्रशिक्षण संस्थान
    माइक्रो क्रेडिट योजना वर्तमान में गैर सरकारी संगठन द्वारा कार्यान्वित सामाजिक क्षेत्र में बेहतर काम कर रहे विकलांग व्यक्तियों के लिए है और समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के आर्थिक और सामाजिक पुनर्वास के लिए कार्यक्रम शुरू करने के लिए पर्याप्त अनुभव होना चाहिए. इस योजना के तहत आवेदन को राज्य माध्यम एजेंसी के माध्यम से प्रस्तुत किया जाता है
    एस सी ए उपयुक्त प्रशिक्षण संस्थान की पहचान करेगा जो अधिमानत: औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आई0टी0आई0), पॉलीटेकनिक, इंजिनियरिंग कॉलेज, कृषि विश्वविद्यालय, राट्रीय उद्यमिता एवं लघु व्यवसाय विकास संस्थान आदि जैसे सरकारी संस्थान होंगे. ऐसे प्रशिक्षण प्रस्ताव भी प्रस्तुत किये जा सकते हैं जिसमे प्रतिष्ठित निजी प्रशिक्षण संस्थान शामिल हों. ऐसे मामलों में संस्थान का प्रोफाइल, उसका पिछला रिकॉर्ड विशेषकर समाज के विकलांग वर्ग के लिए आयोजित किये गये प्रशिक्षण आदि प्रस्तुत किये जाने आवश्यक होगा. अन्ध तथा मूक एवं बघिरों के लिए प्रशिक्षण आयोजित कराने के लिए संस्थान की सुविधाओं की जांच की जायेगी और उसका ब्यौरा प्रशिक्षण प्रस्ताव में दिया जाना चाहिए. इसमें माइक्रो क्रेडिट योजना के अंतर्गत ऋण दिया जायेगा.


    अभिभावक संघ के लिए मानसिक रूप से मंद व्यक्तियों के लिए योजना. ऋण रुपये तक. 5.0 लाख
    वित्तीय सहायता मानसिक रूप से मंद व्यक्तियों के लिए अभिभावक संघ को प्रदान करने एक मानसिक रूप से मंद व्यक्तियों के लाभ के लिए गतिविधि पैदा आय निर्धारित है. आय सृजन गतिविधि के स्वरूप ऐसा होगा कि वह मानसिक रूप से मंद व्यक्तियों शामिल सीधे और आय मानसिक रूप से मंद व्यक्तियों के बीच वितरित किया जाएगा
    इस योजना के तहत एसोसिएशन द्वारा आवेदन करने एन एच एफ डी सी सीधे भेज सकता है.
    NHFDC can take this type of application.


    ऋण, ब्याज की दर की मात्रा, चुकौती अवधि आदि एस सी ए के माध्यम से कार्यान्वित योजनाओं के लिए के रूप में ही रह जाएगा

    The scheme is launched by the government of India through NHFDC. In the scheme loan is given for the following purpose:
    • To start service business & establishing the small business. The limit of loan is
    • For business INR 3.00 lakhs.
    • Service sector INR 5.00 lakhs
    • Commercial activities INR 10.00 lakhs
    • Establishment of small industry Rs. 20.00 lakhs
    • Agriculture activities INR 10.00 lakhs
    • The Mentally undeveloped person can get Inr 10.00 lakhs through the parents. This loan will be joint loan to applicant and the parents
    1. Training for the disabled person: the loan is given to the person who wants to take the study in the country or in foreign from the government or recognized institutions. The amount of loan depends on the capacity of refund the loan of applicant & the parents. In the scheme the encouragement loan and scholarship also given to the applicant.
    2. In the scheme the training is provided, the training institution will be ITI, polytechnic, Engineering college even the private institution can also apply for training provider.
    3. The loan is given to mentally disabled person up to INR 5 lakhs. The loan is joint loan between an applicant and the parents.
    4. In the scheem, the rate of intrest is 4% there is the exemption of 0.5% to the female candidates.
     
  2. guest

    guest New Member

    Mujhe bhi achche kaam ki talash he.
    can i get the loan to start my own business under this scheme of handicapped self help yojana.
     
    Last edited by a moderator: Dec 7, 2016
  3. guest

    guest New Member

    Sir mera nam SOHIL PINJARI he me maharashtra me s3 nandurbar district se hu mene D. Pharm kiya h me physical handicafr hi pleasure koi job higi to btana please contact 7798555375
     
    Last edited by a moderator: Dec 15, 2016
  4. guest

    guest New Member

    मै 100%दिब्यान्ग हु मगर मै रनिंग करना चाहता हु मेरी मदद करे रनिंग वाला पैर बनबाने मे मेरी मदद करे मै कुछ करना चाहता हु देश के लिया 8872389221
     
    Last edited by a moderator: Dec 19, 2016
  5. guest

    guest New Member

    मै सभी दिव्यांग भाईयो से कहना चाहुगा कि चाहै हम लोग कितना भी किसी के सामने गीडगिडाऐ कोई नही सुनता भाईयो हम लोगो की,,,चाहें कोई नैता हो,,चाहैं कोई मन्त्री ,,,यहा तक की बैको मे भी ,,बैको मे भी विकलांग के लिए टोकन देकर कतार मे लगना पड रहा है..भाई ये जो कर्मचारी है ,
    हमको ये समझते हैं ,दिमाग चाटने बाले ,
    जैसे हम लोग भारत के नही है,और ना ही हमारी कोई बोट ,,जबकि मे कहता हु पढाई मै हम तेज ,दिमाग मे इनसे तेज ,,,पर भाई आप चिन्ता ना करो ,,ये तो एक रोग है किसी को भी कही भी हो सकता है..जय हिन्द(-
     
    Last edited by a moderator: Dec 20, 2016
  6. guest

    guest New Member

    Muze lagata hai ki divang vakti jo village me rahata hai use rojgar sevak banana chahiye
    Ya grampanchayat piun banana चाहिये.
    Loan leke koi bhi nahi kar pata
     
    Last edited by a moderator: Dec 28, 2016
  7. guest

    guest New Member

    च्छोटी इंडस्ट्रीज योजना के लोन फॉर्म और डिटेल कहा उपलब्ध होगी? जिला समाज कल्याण विभाग ने तो ये कह कर मना कर दिया की भारत सरकार की इस योजना की जानकारी हमे नही है।। कृपया मार्गदर्शन करे।
     
    Last edited by a moderator: Dec 29, 2016
  8. guest

    guest New Member

    9923705143 manganese kuchh bhi nahi milta hai aapna hakk kud hi chhinana hoga aur aapnee pahachan banani hogi ...
     
    Last edited by a moderator: Jan 4, 2017
  9. guest

    guest New Member

    Sir me phisical handicap hu 10th pass hu koi job ho to 9017802728
     
    Last edited by a moderator: Jan 6, 2017
  10. dear sir,
    can we apply for the loan in government to start a new shop under the handicapped scheme.
     
    Last edited by a moderator: Jan 7, 2017
  11. tausif Ahmad

    tausif Ahmad Guest User

    how can we get the loan amount to start a new shop. i need the application form regarding this.
     
    Last edited by a moderator: Jan 8, 2017
  12. guest

    guest New Member

    Mera nam Rishu kashyap hai mera ek per khrab hai mai bohot garib femli se hu maine 12 tak pdai ki hai magr mai be rojgar hu please mujhe koi job chahiye mujhe koi kam nhi deta hai mai jaha jata hu sab kehte h tum kisi kam ke layk nhi ho mujhe bohot rona aata hai mai bhi apne maa bap ka sahara banna chahta hu agr hmare layk koi kam ho to please mujhe btaiye ye mera mobile number hai 7275348411 please please
     
    Last edited by a moderator: Jan 10, 2017
  13. guest

    guest New Member

    Mera name satish kumar choudhary mne b.s.t.c ki huyi h mera ctet pas h mere reet me 64 per.or 12th me 69.40 h or b.a last year h but muje job ni mil pa rhi m dono paro se viklag ho 80 per.plz help me

     
    Last edited by a moderator: Jan 17, 2017 at 11:58 AM
  14. Pravin Kumar Keshri

    Pravin Kumar Keshri New Member

    दिव्यांग जन विभाग के अधीन नेशनल हेंडीकेप्ड फाईनेंस एंड डेवलपमेंट कारपोरेशन के अधीन इस योजना का उद्देश्य विकलांग व्यक्तियों को ट्रेनिंग एवं ऋण की सुविधा मुहैया/उपलब्ध्द कराना है। दोनो के लिए Online Apply फार्म भरने की व्यवस्था, इस पोर्टल पर करने की कृपा की जाय।

    बैंक से ऋण प्राप्त करने की स्थिति यह है कि पहले तो शाखा प्रबंधक ऋण स्वीकार करने को तैयार नहीं होते है और यदि हो भी जाते है तो विकलांग के जरूरतों के हिसाव से ऋण नहीं दिया जाता है। केवल ऋण देने की औपचारिकतायें पुरी होती है जिसके पीछे की मानसीकता यह है कि समाज विकलांगों की सफलता पर संकुचित दृष्टिकोण रखता है। इसके बावजुद भी यदि सरकार के स्तर से विकलांग का ऋण स्वीकृत हो जाता है तो भी बैंक की कागजी कारवाई के लिए ऋण डोकोमेंट (Loan Document) की जरूरत पड़ती है, जो कुछ ही शाखाओं में उपलब्ध होता है। इस कारण से बिकलांग इस शाखा से उस शाखा तक ऋण डोकोमेंट के लिए चक्कर लगाता है।

    सारांश यह है कि ऋण स्वीकृत होने और ऋण की धनराशि बैंक से प्राप्त होने में लम्बा समय लगता है। जिसके वजह से विकलांग के मन में आशंका और निरशा के भावना को बल मिलता है। जिससे छुटकारा के लिए Online Apply को पुरा करने के बाद Online Loan Document भरने की सुविधा होना चाहिए। जिसमें बैंक का एग्रीमेंट पेपर (Agreement Paper) को भी शामील हो।

    सभी डोकोमेंट एवं एग्रीमेंट को Online भरने के बाद नजदीकी बैंक शाखा में विकलांग उपस्थित हो, जिसका प्रिन्ट निकालकर, Bank Manager विकलांग से डोकोमेंट एवं एग्रीमेंट (Document & Agreement) पर हस्ताक्षर करा कर, ऋण की स्वीकृत धनराशि विकलांग के बैंक एकाउंट में जारी करें। यदि आनलाईन फिंगर प्रिन्ट अथवा आईरीस या अन्य कोई भी जरूरी कारवाई करना है तो बैंक का शाखा प्रबंधक उसको भी आनलाईन पुरा कर सकता है। इससे विकलांग को अनवाश्यक भागम-भाग और हरासमेंट से बचाया जा सकता है। बैंक का डोकोमेंट व एग्रीमेंट पेपर का मूल प्रति हिन्दी की हो जिससे की किन-किन शर्तो के साथ ऋण स्वीकार किया गया है, इसकी पुरी जानकारी विकलांग को हो सके। इससे मिलती-जुलती आनलाईन व्यवस्था करने की कृपा किया जाए।
     
  15. guest

    guest New Member

    Ham garib logo ko sataya ja raha hai, Hamar Ghar Ujada Ja raha hai,
    Hame roti, kapda Aur Makan Cahiye
     
  16. guest

    guest New Member

    Ham garib logo ko sataya ja raha hai, Hamar Ghar Ujada Ja raha hai,
    Hame roti, kapda Aur Makan Cahiye
     
  17. guest

    guest New Member

    what we can do to get the loan scheme.
     
    Last edited by a moderator: Oct 7, 2016
  18. guest

    guest New Member

    प्रवीन जी, आपने विकलांग जनों की मन की बात रखी है। मैं आपका आभारी हूँ।
     
    Last edited by a moderator: Oct 27, 2016
  19. guest

    guest New Member

    Ager koi child jo mentely weak ho jiss ko doctor ne yeah kaha ho ke vo child maandbudhi hai uss bachey ke hak ke property per ager koi gundagardi Kare to uskey ley kya savidhan main adhikar hai.
     
  20. guest

    guest New Member

    Dear sir Please Suggestion me i am m.com/Bed Pass out from university of rajasthan i am physical challenged student
     
  21. guest

    guest New Member

    I am Gautam,I.sc(10+2),electrical engineering Diploma kiya hu &b.a me admition liya hu par me visually handicapped hu, me job ka taiyary kar raha hu par tuition nahi kar pa raha hu money ka abhav he koi part time job milega,dhanbad me jharkhand email id- mahatog868 @gmail.com koi sujhav de plz
     
  22. guest

    guest New Member

    Mera name abdul rajak h or me 12th pass kr li h mere ko job ki jarurt h Sir I am physical handicap hu please contact no 8239871985 or gmail.com ravikhorwal9@gmail.com
     
    Last edited by a moderator: Nov 15, 2016
  23. guest

    guest New Member

    Maze nao pandurang naval ahe mi M.A. Bed. Ahe mala job chi garj ahe no.7588850262
     
  24. guest

    guest New Member

    Dear Sir/Madam, pl added and updated for latest suggestion news for Hearing Impaired / Deaf person pursuing any professional courses like ANY ENGG/ICWAI /CA/CS/ MBA/LLB/ALL 10+2 / DEGREE /POST DEGREE COURSES in oral or postal coaching and exam centre location any where in india must get pass from normal STUDENT average in each paper 40% and DIVYANG STUDENT gets 25% or 30% in each paper AND total SUBJECTS IN EACH SEMESTER OR GROUP average is 50% pass and to get for divyang student is 35% or 40% compulsory due to affected in hand writing, getting not remember for change in weakness..rgds, pr9ml6m@gmail.com
     
    Last edited by a moderator: Dec 1, 2016
  25. guest

    guest New Member

    me bhut garib hu mujhe koi job chahiye pls.9259505720
     
    vijay bhaurao chopade likes this.
Draft saved Draft deleted

Share This Page